Top 10 Moral Stories In Hindi For Kids | Motivational Story

moral motivational stories in hindi for kids

Best Short Moral Story For Children

आप ने Google में Moral Stories In Hindi Related Search किया है और हमारी Website पर आए है इस के लिए धन्यवाद. हम आपके लिए लेकर आए है एक से एक बढ़कर Best Motivational Short Stories In Hindi For Students. इस प्रेरक कहानियां आपको अच्छी सिख और Inspire कर सकती है. ये ज्ञान देने वाली Hindi Moral Stories For Kids की कहानियां आप अपने बच्चे ( Kids – Childrens ) को सुना कर अपने बच्चे का जीवन प्रेरणादायक बना सकते है.

Mr. Kalakaar Website Provides New Moral Story in Hindi For All Class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10. This Real-Life Inspirational Stories In Hindi For Facebook, Whatsapp Then Inspiring More People. I Hope You Like This Story Very Much.

Mr-Kalakaar-Status-Shayari-Divider

Cat And Monkey Story In Hindi With Moral

एक गांव में दो बिल्लियाँ रहती थीं. वह आपस में बहुत प्यार से रहती थीं. उन्हे जो कुछ मिलता था, उसे आपस में बाँटकर खाया करती थीं. एक दिन उन्हे एक रोटी मिली. उसे बराबर – बराबर बाँटते समय उनमे झगड़ा हो गया. एक बिल्ली को अपनी रोटी का टुकड़ा दूसरी बिल्ली के रोटी के टुकड़े से छोटा लगा. परन्तु दूसरी बिल्ली को अपनी रोटी का टुकड़ा बड़ा नहीं लगा.

जब दोनों बिल्लियाँ किसी समझौते पर नहीं पहुंच पायी तो दोनों बिल्लियाँ एक बंदर के पास गयी. उन्होने बंदर को सारी बात बताई और उससे न्याय करने के लिये कहा. सारी बात सुनकर बंदर एक तराजू लेकर आया और दोनों टुकड़े एक-एक पलड़े में रख दिये. तोलते समय जो पलड़ा भारी हुआ, उस वाली तरफ से उसने थोड़ी सी रोटी तोड़कर अपने मुँह में डाल ली. अब दूसरी तरफ का पलड़ा भारी हो गया, तो बंदर ने उस तरफ से रोटी तोड़कर अपने मुँह में डाल ली. इस तरह बंदर कभी इस तरफ से तोह कभी उस तरफ से रोटी जयादा होने का कहकर रोटी तोड़कर अपने मुँह में दाल लेता.

दोनों बिल्लियाँ चुपचाप बंदर के फैसले का इंतज़ार करती रहीं. परन्तु जब दोनों बिल्लियों ने देखा के दोनों टुकड़े बहुत छोटे-छोटे रह गये तो वह बन्दर से बोली – ” आप चिंता ना करें, हम अपने आप बंटवारा कर लेंगे. “

इस पर बंदर बोला – ” जैसा आप ठीक समझो, परन्तु मुझे भी अपनी मेहनत की मजदूरी मिलनी चाहिए. ” इतना कहकर बंदर ने रोटी के बचे हुए दोनों टुकड़े अपने मुँह में भर लिये और बिल्लियों को वहां से भगा दिया.

दोनों बिल्लियों को अपनी गलती का बहुत दुःख हुआ और उन्हे समझ में आ गया की – ” आपस की फुट बहुत बुरी होती है और दूसरे इसका फायदा उठा सकते है. “

Mr-Kalakaar-Status-Shayari-Divider

Short Greedy Dog Moral Stories In Hindi | लालची कुत्ता

एक बार एक कुत्ते को बहुत जोर से भूख लगी थी. तभी उसे एक रोटी मिली. वह उस रोटी का पूरा आनंद लेना चाहता था. इसलिए वह उसे शान्ति में बैठकर खाने की इच्छा से रोटी को अपने मुँह में डाल कर नदी की ओर चल दिया.

नदी पर एक छोटा सा पुल था. जब कुत्ता नदी पार कर रहा था, तभी उसे पानी में अपनी परछाईं दिखाई दी. उसने अपनी परछाई को दूसरा कुत्ता समझा और उसकी रोटी छीनना चाहा.

रोटी छीनने के लिए उसने भौंकते हुए नदी में छलांग लगा दी. मुंह खोलते ही उसके मुँह की रोटी नदी के जल में गिर कर बह गयी और लालची कुत्ता भूखा रह गया. इसलिए कहा गया है कि हमें लालच नहीं करना चाहिए.

Mr-Kalakaar-Status-Shayari-Divider

Best Motivational Short Story In Hindi For Students

एक लड़का सुबह सुबह दौड़ने को जाया करता था, आते जाते कई दिनों से वो एक बूढी महिला को तालाब के किनारे छोटे छोटे कछुवों की पीठ को साफ़ करते हुए देखता था..!!

एक दिन उस लड़के को इसके पीछे का कारण जानने का ख्याल आया और वो उस बूढी महिला के पास गया और उनका अभिवादन कर बोला की –

“ नमस्ते आंटी..! मैं यहां से गुजरता हु तो आपको हमेशा इन कछुवों की पीठ को साफ़ करते हुए देखता हूँ आप ऐसा किस वजह से और क्यों करते हो ? ”

महिला ने उस मासूम से लड़के को देखा और इस पर लड़के को जवाब दिया ” मैं हर रविवार यंहा आती हूँ और इन छोटे छोटे कछुवों की पीठ साफ़ करते हुए सुख शांति का अनुभव लेती हूँ..!! “

क्योंकि इनकी पीठ पर जो कवच होता है उस पर कचड़ा जमा हो जाने की वजह से इनकी गर्मी पैदा करने की क्षमता कम हो जाती है इसलिए इन कछुवे को तैरने में मुश्किल का सामना करना पड़ता है. और यही एक वजह है कि मै इनके कवच को साफ़ करती हूँ.

यह सुनकर लड़का बड़ा हैरान हुआ, उसने फिर एक सवाल किया और बोला की –

” बेशक आप बहुत अच्छा काम कर रहे है लेकिन फिर भी आंटी एक बात सोचिये कि इन जैसे कितने कछुवे है जो इनसे भी बुरी हालत में है जबकि आप सभी के लिए ये नहीं कर सकते तो उनका क्या ? “

क्योंकि सिर्फ आपके एक अकेले के बदलने से तो कोई बड़ा बदलाव आयेगा नहीं..!

महिला ने बड़ा ही संक्षिप्त लेकिन असरदार जवाब दिया कि – भले ही मेरे इस कर्म से दुनिया में कोई बड़ा बदलाव नहीं आयेगा लेकिन ज़रा सोचो की इस एक कछुवे की जिन्दगी में तो बदलाव आयेगा ही ना..!! तो क्यों हम ऐसे छोटे-छोटे बदलाव से ही शुरुआत करें..??

Mr-Kalakaar-Status-Shayari-Divider

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*